बर्बाद जीनियस थे(हैं) ब्रजेश्वर मदान

8
ब्रजेश्वर मदान को मैं तब से जानता था जब डीयू में पढ़ते हुए फ्रीलांसिंग शुरू की थी. दरियागंज में ‘फ़िल्मी कलियाँ’ के दफ्तर में उनसे मिलने जाया करता था. वे उसके संपादक थे. मनोहर श्याम जोशी से जब बाद में मिलना हुआ और उनसे एक गहरा नाता बना तो वे कहते थे कि ब्रजेश्वर मदान स्वाभाविक जीनियस है. वे आज भी हैं लेकिन हमारी स्मृतियों से दूर हो गए हैं, जाने कहाँ. लेखक शशिभूषण द्विवेदी का यह संस्मरण पढ़ा तो एक ज़माना याद आ गया जिसे भूले एक ज़माना हो गया था. शशिभूषण ने बहुत प्यार से लिखा है. उस सम्मान के साथ जिसके वे हमेशा हकदार थे. हैं. आप भी पढ़िए- प्रभात रंजन 
========
========
पंजाबी की प्रख्यात लेखिका अजीत कौर ने एक बार एक गोष्ठी में सार्वजनिक रूप से कहा था कि पूरे दक्षिण एशिया में जीवित महान लेखकों में इंतिजार हुसैन के  बाद अगर कोई दूसरा है तो वो हैं ब्रजेश्वर मदान। हो सकता है कि अजीत कौर की बात में कुछ अतिश्योक्ति हो लेकिन मदान साहब कई मामलों में अनोखे लेखक तो हैं हीं। हिंदी और उर्दू दोनों ही भाषाओं में वे समान रूप से मकबूल हैं, बल्कि उर्दू में तो शायद हिंदी से कुछ ज्यादा ही। वे दोनों हाथों से एक साथ लिख सकते  हैं-एक हाथ से हिंदी में तो दूसरे से उर्दू या पंजाबी में। हिंदी, उर्दू, पंजाबी और अंग्रेजी के वे समान रूप से विद्वान हैं। लेकिन लेखन की दुनिया में जब मैं आया तो ब्रजेश्वर मदान को जानता तक नहीं था। मगर जब जाना तब मैं उनका दीवाना हो गया। आगे बढऩे से पहले मैं बता दूं कि अभी हाल ही में मैंने कनॉट  प्लेस की अंग्रेजी किताबों की एक दुकान में एक किताब देखी जिसमें हिंदी की कुछ अनूदित कहानियां थीं जो  अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हिंदी का प्रतिनिधित्व करती  थीं। इस किताब को बेस्ट सेलर का दर्जा हासिल है और यह शायद हार्पर कालिंस या पेंगुइन से छपी है(प्रकाशक का नाम अब ठीक-ठीक याद नहीं)। इस किताब में हिंदी के जिन लेखकों को प्रतिनिधि लेखक माना गया उनमें-प्रेमचंद, जैनेंद्र कुमार, अज्ञेय, निर्मल वर्मा, राजेंद्र यादव, कृष्णा सोबती, मोहन राकेश, कमलेश्वरस्वदेश दीपक और ब्रजेश्वर मदान हैं।

इस किताब में मदान साहब की कहानी लेटर बॉक्सहै। इसी नाम से उनका एक संग्रह भी है जो हिंदी के एक गुमनाम प्रकाशक ने छापा है और अब शायद आउट ऑफ प्रिंट है। मदान साहब के अनुसार यह प्रकाशक दरअसल उनका मित्र है (भले ही उसने उनका कितना ही शोषण किया हो)। मदान साहब की ज्यादातर किताबें ऐसे ही गुमनाम प्रकाशकों ने छापी हैं जो शराब के नशे में उनके दोस्त बन गए। अजीब बात है कि बाद में जब मैं और प्रभात रंजन उनके संपर्क में आए और हमने चाहा कि उनकी किताबें बड़े प्रकाशकों के यहां से ढंग से छपकर आएं तो  उन्होंने इंकार कर दिया। उनका कहना था कि यार, दोस्ती भी कोई चीज होती है’, जबकि इन किताबों के लिए उन्हें बाजार दर से ज्यादा पैसे देने की बात हो चुकी थी। प्रभात गवाह हैं। मगर मदान साहब टस-से-मस नहीं हुए। उन दिनों मैं मदान साहब के साथ दिन-रात रहता था और प्रभात ने यह जिम्मेदारी मुझे दी थी कि मैं मदान साहब को मना लूं। लेकिन लाख कोशिश के बावजूद मैं उन्हें नहीं मना सका। यह मेरे जीवन की सबसे बड़ी असफलता है।

उन दिनों मदान साहब मुझे अपना बेटा मानते थे और अपनी वसीयत मेरे नाम करने को उतावले थे। हालांकि यह सब शराब के नशे में होता था। ऐसी हालत में अक्सर वे मुझसे कहते कि यार, सुनील दत्त के पास तो इतना पैसा था कि संजय दत्त का इलाज उसने लंदन में करा लिया। मैं तो अपना सब कुछ बेच-बाच भी दूं तो भी तेरे लिए इतना पैसा नहीं जुटा सकता।और मैं सोचता कि मेरे पास तो इतना पैसा भी नहीं कि  इसी शहर में आपका इलाज करा सकूं। यानी हम दोनों बाप-बेटे एक दूसरे के इलाज के मुताल्लिक सोचते रहते और यह सब नशे में होता था। होश में आते ही वे मुझे हरामी कहते और मैं उन्हें। हालांकि हमारी उम्र में कम-से-कम तीस-चालीस साल का अंतर  था।
लेकिन ये रिश्ता बहुत गहरा था। इसका अहसास मुझे तब हुआ जब मैंने नौकरी बदल दी और उनसे दूर चला आया। दो-तीन महीने बाद ही पता चला कि मदान साहब को फालिस का अटैक पड़ा है और उनका दायां हिस्सा पूरी तरह बेकार हो चुका है। मैं उन्हें देखने जाना चाहता था लेकिन पता नहीं था कि वे कहां हैं। चूंकि अपने घर में वे अकेले थे और फालिज के अटैक के  बाद अपने किसी रिश्तेदार के यहां चले गए थे। यह खबर मिलते ही मैंने प्रभात  को फोन किया। न प्रभात न मेरी हिम्मत पड़ी इस अपाहिज हालत में उन्हें देखने की।  वे हमारे हीरो थे और अपने हीरो को हम अपाहिज नहीं देख सकते थे। इस दौरान कवि चंद्रभूषण और रंजीत वर्मा से उनकी खोज-खबर मिलती रही। हम चाह कर भी कुछ नहीं कर पाए। हिंदी के कई धुरंधरों और मठाधीशों को उनके बारे में बताया तो उन्होंने  भी कोई रुचि नहीं ली। क्यों लेते? अब उनसे उन्हें कोई लाभ जो नहीं था। यूं भी मदान साहब जिंदगी भर इन लोगों को अंगूठा दिखाते रहे। उनकी ज्यादातर क्लासिक कहानियां बड़ी साहित्यिक पत्रिकाओं में नहीं छपीं। अधिकांश कहानियां तो फिल्मी कलियांमें छपीं जिसके वे अघोषित संपादक थे और जिसका मालिक उन्हें रोज वेतन की जगह शराब की एक बोतल पकड़ा देता था। उन्होंने बताया था कि मुद्राराक्षस से उनकी दोस्ती फिल्मी कलियांमें छपी उनकी एक कहानी के जरिए ही हुई। जाने क्यों वे मुझे बहुत जहीन और पैदाइशी किस्सागो मानते थे और इस  बात को अपने उस बेटे से जोड़ लेते थे जो जन्म के चार-छह महीने बाद ही गुजर गया था।  वे अक्सर कहते कि अगर मेरा बेटा जिंदा तो बिल्कुल तेरे जैसा होता। उन दिनों नशे में वे अक्सर मुझे बहुत सारी किताबें डांट-डांट कर पढ़ाते थे। उनकी दी हुई बहुत सी किताबें आज भी मेरे पास हैं जिनमें हेनरी मिलर की ट्रॉपिक ऑफ कैप्रिकॉनखास है।

खैर…उनके बेटे से जुड़ी कहानी सचमुच बहुत दुखद है। मदान साहब की जिंदगी की सबसे बड़ी ट्रेजडी। महज बीस-पच्चीस रुपये न होने की वजह से उनका बेटा 30-३५ साल पहले बीमारी में बिना इलाज के मर गया। इस सदमे को उन्होंने तो जैसे-तैसे बर्दाश्त कर लिया लेकिन उनकी पत्नी नहीं कर पाईं और सारी जिंदगी के लिए साइकिक हो गईं। उस बेटे के कपड़े और मोजे तक उन्होंने संभाल कर रखे थे और उन्हें देखकर अक्सर वे मदान साहब की लानत-मलामत करती थीं। उनका मानना था कि उनके बेटे की मौत के जिम्मेदार मदान साहब ही हैं। यह सब तो  मेरा अपना देखा हुआ है। मदान साहब उनकी बात चुपचाप सुनते रहते और उनका कुछ ज्यादा ही खयाल रखने लगते। हालांकि ये बहुत बाद की बात है।

मदान साहब को शराब की लत थी और यह सब उनकी जिंदगी के भयानक दुखों के बायस था। ये दुख इतने बड़े थे कि मैं उन्हें लिख नहीं सकता और लिख दूं तो कोई समझ नहीं पाएगा। जिंदगी में बहुत सी बातें ऐसी होती हैं जो कही नहीं जा सकतीं। मदान साहब से मेरा संबंध सहारा समय और राष्ट्रीय सहारा में नौकरी के दौरान ही बना। इस दौरान उन्हें उसी एक चीज से अरुचि हो गई थी जिसने उन्हें इतनी शोहरत दी यानी फिल्मी लेखन। मनोहर श्याम जोशी को मदान साहब अपना गुरु मानते रहे हैं और प्रभात बताता है कि जोशीजी कहा करते थे कि पूरे दक्षिण एशिया में फिल्म की ऐसी समझ रखने और उस पर लिखनेवाला मदान से बेहतर कोई नहीं। और यह सच भी है। उनकी किताब सिनेमा: नया सिनेमाइसका सबसे बड़ा प्रमाण है।

मदान साहब को फिल्म लेखन के लिए हिंदी में पहला राष्ट्रीय पुरस्कार मिला। यह सम्मान उन्हें तब मिला था जब राष्ट्रीय पुरस्कारों में आज की तरह तीन-तिकड़म नहीं चलते थे। लेकिन मदान साहब को कभी इस बात का अहंकार नहीं हुआ और न उन्होंने इसका कोई लाभ ही उठाया। उन्हें तो इसी में खुशी थी कि यह  पुरस्कार उन्होंने अपनी बीवी के साथ लिया और उस समय वह बहुत खुश थी। पत्नी  की  मौत के बाद वह चित्र जिसमें वे उनके साथ वह पुरस्कार ले रही हैं और बहुत खुश हैं, मदान साहब ने अपने सिरहाने रखा हुआ था। उनके तकिए के नीचे हमेशा फिल्म  अभिनेत्री माला सिन्हा का चित्र रहता था। एक जमाने में माला सिन्हा से उनका  प्रेम चला था, शायद एकतरफा। हालांकि उनके नाम माला सिन्हा के कई भावभीने पत्र मैंने खुद देखे हैं। एक पूरी एल्बम थी जिसमें वे माला सिन्हा के साथ हैं या उनकी बेटी को गोद में खिला रहे हैं (जो अब खुद भी फिल्म अभिनेत्री है।) माला सिन्हा के बारे में वे अक्सर कहते कि इस औरत ने मुझे बर्बाद कर दिया। दरअसल माला सिन्हा के चक्कर में उन्होंने बहुत पापड़ बेले थे। बीए करने के बाद माला सिन्हा के एक परिचित के यहां ट्यूशन पढ़ाया और फिर फिल्मों की दीवानगी के चलते घर (स्यालकोट) से भागकर दिल्ली चले आए। दिल्ली में कोई ठिकाना नहीं था सो फिल्मी कलियांऔर दूसरी फिल्म पत्रिकाओं में बेगारी की। शायद फिल्मी कलियांमें ही उन्होंने माला सिन्हा पर कोई लेख लिखा था जिसे पढक़र माला सिन्हा ने उन्हें पत्र लिखा और मिलने के लिए बंबई बुलाया। वे अचानक सब कुछ छोड़-छाडक़र बंबई चले गए। माला सिन्हा मिलीं और भी बहुत से लोग मिले।

राजकपूर, दिलीप कुमार और भी उस जमाने के जाने-माने लोग। मणि कौल और कुमार साहनी बाद में उनके दोस्त ही बन गए। इसके बाद से ही वे पूरी तरह फिल्म के हो गए। लेकिन फिल्म उनका पहला प्यार नहीं था। वह मजबूरी का काम था। उनका पहला प्यार तो साहित्य था। लेकिन साहित्य से उन्हें पैसा नहीं मिल सकता था। पैसा मिलता था फिल्म लेखन से। नौकरी उन्होंने कभी की नहीं। की भी तो एकाध साल के लिए जब वे रिटायरमेंट की उम्र में पहुंच गए थे। हिंदी में उनके जैसा होलटाइमर फ्रीलांसरमैंने नहीं देखा। पहले होते होंगे तो नहीं जानता। मदान साहब ने जो कुछ पाया-कमाया सिर्फ लेखन से ही। इसके अलावा उन्होंने कभी कुछ और किया-मैं नहीं  जानता। एकबार उन्होंने किसी और के जरिए अपना एक ब्लॉग भी बनवाया था जिस पर लिखा था-नौकरी कभी कभार, चाकरी कभी नहीं की।

मंटो और अहमद नदीम कासमी उनके प्रिय लेखक हैं। कासमी तो उनके दोस्त ही थे। कासमी के तमाम संस्मरण अक्सर वे मुझे सुनाते थे। सिर्फ लेखन के दम पर ही उन्होंने नोएडा में इतना बड़ा बंगला बनवाया जिसमें पत्नी की मृत्यु के बाद वे भूत की तरह अकेले भटकते रहते थे। शक्की बहुत थे। जब तक पत्नी जिंदा थीं उन्हीं के हाथ का बना खाना खाया। उसके बाद अपनी साली के हाथ का बना खाना भी उन्होंने कभी नहीं खाया। उन्हें शक था कि ये लोग उन्हें जहर दे देंगे। हालांकि मदान साहब के इस शक या फोबिया के पीछे कुछ तथ्य भी हैं। दरअसल, प्रापर्टी के  चक्कर में उनके तमाम रिश्तेदार उनके पीछे पड़े हुए थे। उन्हें डर था कि ये लोग इस चक्कर में उनकी जान ले लेंगे। लेकिन जिंदगी अजीब है। जिस संपत्ति के लिए वे इतने सशंकित थे, फालिज के अटैक के बाद अब वे उसे ही छोडक़र किसी और के यहां पड़े हुए हैं। खैर…

एक जमाना था जब हम लोग ऑफिस के बाद शाम सात बजे नोएडा सेक्टर-१२ की मार्केट में होते थे। पूरी मार्केट में हर दुकानदार उनका परिचित था और उनकी बहुत इज्जत करता था। उनमें बहुत से लोग उनके पाठक भी थे। एक कसाई और एक कपड़े की दुकान  वाले को तो मैं खुद जानता हूं जो उनका लिखा जरूर पढ़ते थे। वहां शराब की एक शानदार दुकान है जो शाम को उनका स्थाई अड्डा हुआ करती थी। उस दुकान का मालिक उनका पाठक था और उनकी बहुत इज्जत करता था। चूंकि मदान साहब घर पर नहीं पीते थे (क्योंकि उनकी पत्नी को यह पसंद नहीं था) इसलिए उसने दुकान में ही उनके लिए  विशेष इंतजाम कर रखा था। मैंने आज तक कहीं और कभी नहीं देखा कि शराब की दुकान पर किसी का उधार खाता चलता हो। लेकिन उस दुकान पर मदान साहब का उधार खाता  बाकायदा चलता था। मैंने खुद उनके खाते से कई बार उधार शराब ली है। इसका एक कारण तो मदान साहब के प्रति उन लोगों की श्रद्धा थी। दूसरा यह कि मदान साहब पे मास्टर थे। ज्यादा दिन वे किसी का उधार नहीं रखते थे और बिना किसी हिसाब-किताब के सबको खुश रखते थे। लेकिन ऐसा भी नहीं कि मदान साहब कोई शाहखर्च थे। कई बार वे कमीनगी की हद तक कंजूस हो जाते थे। मैंने देखा है कि कई बार उन्होंने बहुत जरूरतमंदों को भी जलील करके भगा दिया। हो सकता है कि इसके पीछे कुछ और कारण हों जिन्हें मैं नहीं जानता। अकारण तो वे किसी को बेइज्जत नहीं करते थे। कई बार फिल्म वालों को मैंने उनकी चिरौरी करते भी देखा है लेकिन उन्होंने उन्हें डांट कर भगा दिया। उन दिनों उन्हें फिल्मों से चिढ़ हो गई थी। यहां तक कि टीवी से भी उन्हें नफरत थी। उनके घर पर एकाध बार मैंने उनका टीवी चला दिया तो वे भडक़ गए और बोले इस इडियट बॉक्सको उठाकर बाहर फेंक दे। लोगों को इस मीडियम की कोई समझ नहीं है। टीवी में सब बेवकूफ भरे हुए हैं। मैं उनका मूड देखकर खमोश बैठा रहा।

For more updates Like us on Facebook

8 COMMENTS

  1. ब्रजेश्वर मदान को मैं कईबार काफी हाउस में मिल चुका हूँ । तब मैं उन्हे फिल्मों की समीक्षा लिखने वाला लेखक ही मानता था । पल यह संस्मरण पढ़ कर मुझे उन की प्रतिभा का पता चला । लेकिन उन की वर्तमान दशा पर मुझे अफ़सोस है ।

  2. टाईपिंग की अशुद्धियाँ :कृपया बड़जात्या के स्थान पर छाबड़ा फिल्म्स, प्रकाशक : दीवान के स्थान पर 'विजय दीवान' छूटे के स्थान पर 'छूते' , लेन के स्थान पर 'लेने' शब्द पढ़ें.

  3. 'वर्तमान साहित्य' में बृजेश्वर मदान पर शशिभूषण द्विवेदी का संस्मरण छपा है, जिसे प्रभात रंजन की वेब ‘जानकी पुल’ ने भी साभार प्रकाशित किया है. हो सकता है औरों ने भी ऐसा किया हो. इसलिए संस्मरण पर मेरी प्रतिक्रिया इसलिए ज़रूरी है क्योंकि वह हिंदी का एक प्रतिभाशाली कथाकार है और पत्रकार भी. दुर्भाग्य से वह भी हिंदी साहित्य के स्वार्थी व पेशेवर गुटों तथा अवसरवादी कथित मठाधीशों के अनेक पूर्वग्रहों का शिकार रहा है जैसे कभी राही मासूम रज़ा, गुलशेर अहमद खां शानी, प्रोफ़ेसर शैलेश ज़ैदी और देवेन्द्र सत्यार्थी जैसे अनेक बड़े साहित्यकार रह चुके हैं.
    शशिभूषण द्विवेदी के संस्मरण की ओर मैं ध्यान इसलिए दिलाना चाहता हूँ कि कुछ आरोपित भ्रम कम किये जा सकें. शशिभूषण के संस्मरण में हरे प्रकाश उपाध्याय की एक 'बदमाशी' का ज़िक्र किया गया है. यह कथित बदमाशी हरेप्रकाश उपाध्याय ने बृजेश्वर मदान को बेवक़ूफ़ बनाकर १००० रूपये रुपये ऐंठ लेने पर ख़त्म हुई. १९९० में मदान ने जब इस घटना का ज़िक्र किया तब मैं साप्ताहिक जनाधार भारती का संपादक था और उस समय कवि शलभ श्रीराम, राजेंद्र जैन, कुबेर दत्त और कुछ अन्य लोग बैक-रूम में बैठे शराब पी रहे थे. बृजेश्वर मदान तब बहुत भावुक हो गए थे. शलभ श्रीराम से उन्होंने सवाल किया था,'क्या नई पीढ़ी आने वाले समय में अपने सामाजिक मूल्यों को भी लिक्विड सोप से धोकर रख देगी? उन्होंने बताया कि वे लड़के उन्हें मूर्ख बनाकर पैसे ऐंठ रहे थे और एक कथाकार बदलते मूल्यों का भविष्य आंक रहा था. कुछ हासिल करने के लिए कुछ खोना तो पड़ता ही है.'
    शशिभूषण द्विवेदी के तब के अट्ठास मेरे कानों को आज भी भेदते रहते हैं जबकि मैंने मात्र वे अट्टहास मदान की मार्फ़त सुने भर थे. मदान पर तब क्या गुज़री होगी, इसकी मैं कल्पना कर सकता हूँ.
    संस्मरण में बृजेश्वर मदान के बारे में बहुत ग़लत और अनर्गल बातें कही गई हैं. ऐसी बातें कुबेर दत्त को लेकर भी कही गई थीं लेकिन वहां कहीं तक सच्चाई थी, यहां सच्चाई कम गप्प ज़्यादा लगीं. मदान को मैं तब से जनता हूँ जब मैं डीएवी स्कूल में पढता था. दूसरी शिफ्ट में मैं 'नीलम' (फिल्म) पत्रिका (पार्ट टाइम संपादन) के संपादक (गुरू) श्याम सुन्दर मुनव्वर को असिस्ट करता था. वह मुझे बदले में १०० रूपये पर्स-मनी के देते थे. 'नीलम' का तब भगीरथ पैलेस स्थित एसएस फिल्म्स के दफ्तर में ऑफिस हुआ करता था. सामने फिल्म जंगली के वितरक बड़जात्या फिल्म्स का दफ्तर था. फिल्म पत्रकारों और मीडिआ से जुड़े दूसरे लोगों का काफी आना-जाना लगा रहता था. उन्हीं में मेरा एक अभिन्न दोस्त भी था जो बाद में पत्रिका का 'फ़िल्मी कलियाँ' का संपादक-प्रकाशक बना जिसका पहला अंक मेरे द्वारा सम्पादित किया गया था और दूसरे अंक से बृजेश्वर मदान ने. बृजेश्वर मदान तब भगीरथ पैलेस से ही निकलने वाली एक बहुचर्चित पत्रिका 'चित्रलेखा' के अलिखित संपादक हुआ करते थे. उसके प्रकाशक केसरी साहब मेरे गुरू एसएस मुनव्वर के गहरे मित्र थे और ठीक ६ बजे से दफ्तर में बोतलें खुलनी शुरू हो जाती थीं. तब मुझसे कह दिया जाता था, ' जा पुत्तर, पढाई-शढाई कर.'
    उन दिनों फाइव-स्टार होटलों में पार्टियां होती थीं, मुनव्वर साहब उनका प्रबंध करते थे. नन्हे फिल्म पत्रकार के रूप में मुझे भी उनमें शामिल होने का अवसर मिल जाता था. ख्वाजा अहमद अब्बास की फिल्म 'बम्बई रात की बाँहों में' की पार्टी का प्रबंध एसएस फिल्म कर रहा था. ६ बोतलें मुझे कनॉट प्लेस से लेन को कहा गया. तब मेरे साथ अंग्रेजी अख़बार 'थाट' के फिल्म जर्नलिस्ट मिस्टर एसएस अरोड़ा मेरे साथ थे. उन्हीं के साथ होटल क्लरेजिस में पहली बार मेरी ब्रजेश्वर मदान से बाक़ायदा दोस्ती हुई. फिर चाहे ओबराय हो या मौर्या शेरेटन, क्लेरेजिस हो या कोई और….ब्रजेश्वर मदान जहाँ भी मिलते, दिल खोलकर मिलते. ताज्जुब यह कि मैंने उन्हें कभी या कहीं भी टुन्न होते नहीं देखा. उस समय तक मदान फ़िल्मी दुनिया के बड़े पत्रकारों में शुमार किये जाते थे. तब नवभारत टाइम्स में रंगनाथ पाण्डेय थे, बच्चन श्रीवास्तव कि टूटी बोलती थी, लेकिन इज़्ज़त मदान की ही थी. 'फ़िल्मी कलियाँ' में आकर उनका पार्टियों में जाना लगभग बंद हो गया था. लेकिन यह आरोप गलत है कि प्रकाशक दीवान उन्हें वेतन नहीं देता था, बोतल देता था. मैं अपने बचपन के दोस्त को समूचे परिवार से परिचित रहा हूँ. प्रेम हों या बाबू जी (जयहिंद न्यूज़ एजेंसी के मालिक) कभी शराब छूटे तक नहीं थे. किसी को देने की बात तो अलग है. ……क्रमशः जारी/-2

  4. मैं गयी थी उनसे मिलने उनके भाई के घर, लेकिन आज किसी को कुछ नहीं पता के वो जीवित भी हैं या नहीं।

  5. अखबारों में विज्ञप्ति देकर उन्हें सरकारी सहायता दिलाने का प्रयास करना चाहिये.-रासबिहारी पाण्डेय

  6. शशिभूषण द्विवेदी के इस लेख में श्री विनोद भारद्वाज और श्री विष्णु खरे को लेकर कोई ऐसी टिप्पणी चली गई थी जो तथ्यात्मक रूप से गलत थी. उसे सम्पादित कर दिया गया है. मैं उसे देख नहीं पाया था. अपने दोनों वरिष्ठ लेखकों से मैं क्षमाप्रार्थी हूँ. आगे से ऐसी असावधानी न हो मैं इसका ध्यान रखूँगा.

LEAVE A REPLY

17 − 13 =